शहीदे -आजम भगत सिंह


बहुत दूर तक फैलने से अच्छा है,
तेरी गोद में सिमट के रह जाऊं,
ए माँ , तेरा आँचल में हर दर्द सह जाऊं.
किसी अम्बर का चाँद बन्ने से अच्छा है,
तेरी आँखों का तारा बन के टूट जाऊं.
ए माँ , तेरा आँचल में हर दर्द सह जाऊं,परमित…..Crassa

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s