जय माँ शारदे


जय माँ शारदे,
विद्या-बुद्धि,
मेरे मस्तक में भर दे.
ह्रदय की धड़कनों में,
हो आपकी वीणा की झंकार।
और साँसों में मेरे मैया,
संस्कार भर दे.
आँखों में हो रौशनी,
धर्म-ज्ञान की.
और मेरे धमनियों में,
परोपकार भर दे.

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s