चाँद भी दुर्बल सा


शहर का शहर है जल रहा,
हुस्न उसका, प्रबल इतना।
क्या वसुधा?
उसकी जुल्फों के लपटों से,
अम्बर तक झुलस रहा.

तारे -सितारे सब टूट रहे,
चाँद भी उनका हो गया है दुर्बल सा.
कोने -कोने में नभ के अमावस्या फ़ैल रहा,
रूप उसका, प्रखर इतना।

 

परमीत सिंह धुरंधर

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s