माँ – बाप से अच्छी शहनाई लग रही


अपनी गलियाँ ही पराई लग रहीं,
बाबुल की लाड़ली खोई – खोई लग रही.
जाने कैसा जादू कर गया, एक परदेशी?
सखी – सहेली, सब खटाई लग रहीं।

हल्दी के चढ़ने का ऐसा असर,
माँ – बाप से अच्छी शहनाई लग रही.
सब सहने को अब है तैयार गोरी,
मायके से अच्छी, ससुराल की मिठाई लग रही.

छोटे से जीवन में क्या – क्या करें?
जीवन अब ये तन्हाई लग रही.
कैसे लड़ें, कैसे जीतें?
जब हारी हुई ये लड़ाई लग रही.

आशिक तो कब का मारा गया,
अब तो बेबस – लाचार उसकी दुहाई लग रही.
ऐसा होता है हुस्न और उसका त्रिया-चरित्र,
की सबको बस वही अबला और सताई लग रही.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s