गोरी तेरे वक्षों से कोई खेल रहा है


मधुर तेरी मुस्कुराहट का हमें राज पता है,
गोरी तेरे वक्षों से कोई खेल रहा है.
शीतलहर में तेरा यूँ चलना लचक – लचक,
यूँ इठला – इठला के रुकने,
और मुड़ने का हमें राज पता है,
गोरी तेरे वक्षों से कोई खेल रहा है.

गोरु – पखेरू सब सिथिल पड़े हैं,
बस एक तू ही है जो ज्वाला बनी है.
तेरे अंग – अंग के ज्वार का हमें राज पता है,
गोरी तेरे वक्षों से कोई खेल रहा है.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s