वक्षों पे ही मोक्ष है


व्याकुल मन को शांत कर दे,
चित को कर दे एकाग्र।
योग – माया क्या है ये जीवन?
वक्ष ये केवल वक्ष नहीं हैं,
ये हैं मोक्ष – अमृत – परमानंद का भण्डार।

हिमालय सा उन्नत ये,
सुसुप्त अवस्था में भी रखते हैं,
समुन्द्र सा ज्वार।
अपूर्व – अन्नत इस ब्रह्माण्ड में,
ये वक्ष ही करते हैं जीवन का संचार।
वक्ष ये केवल वक्ष नहीं हैं,
ये हैं वीरों का अभिमान।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s