शौक


मौका ही नहीं मिला समुन्दर से खेलने का,
सितारों ने ही ऐसे उलझा के रख दिया।
शौक भी होता है किसी -किसी को जवानी में बिखरने का,
यूँ ही आशिकों ने इश्क़ में खुद को नहीं मिटा दिया।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s