पिछड़ा – पिछड़ा महसूस करता हूँ


बुलंदियों की चाहत में ऐसे भाग रहे है लोग आगे – आगे
की मैं दिल के हाथों मजबूर, पिछड़ा – पिछड़ा महसूस करता हूँ.
ऐसे तोड़ गयी वो दिल मेरा मोहब्बत में
की खुशियों की हर बेला में तन्हा – तन्हा महसूस करता हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s