जियो – जियो हे अम्बानी


दौलत की ऐसी बरसात
ना पहले देखि थी
ना शायद देख पाउँगा।
जियो – जियो हे अम्बानी
जुग – जग जियो हे अम्बानी।

कौन -कौन नहीं आया?
कौन – कौन नहीं नाचा?
तुम लग रहे थे इंद्रा
और नीता इंद्राणी।
जियो – जियो हे अम्बानी
जुग – जग जियो हे अम्बानी।

सोने की चिड़िया थी
कभी ये धरती अपनी भी
ऐसा पढ़ा और सूना था.
तुमने हकीकत में बदल दी
इतिहास की वो कहानी।
जियो – जियो हे अम्बानी
जुग – जग जियो हे अम्बानी।

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s