भारत-रक्षक स्कंदगुप्त


पिता तुम्हारी चरणों में शत -शत बात नमन मेरा
मैं लौटूंगा समूल मिटा के हूणों का कुल-बल सारा।
क्षण भर भी मुझे मोह नहीं सत्ता के इस सुख का
अक्षुण्य रखूँगा मगध को बस ये ही हैं स्वप्न मेरा।

RSD

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s