अर्जुन – पुत्र अभिमन्यु


यूँ ही धरा पे,
अब नहीं धीरज धरूँगा,
तुम कहोगे,
तो आज से ही युद्ध होगा।
साँसों के आखिरी क्षणों तक,
भीषण संग्राम होगा।
लाएंगे तुम्हारे स्वप्न, या फिर,
कुछ नया ही अंजाम होगा।
मुठ्ठी भर हैं, तो ये मत सोचो,
की मसल दिए जाएंगे।
आज ग्रहों-नक्षत्रों,
और स्वयं सूरज तक,
अर्जुन – पुत्र अभिमन्यु का,
तेज होगा।
भीषण – बाणों की बर्षा होगी,
चारों दिशाओं से.
जर्रे – जर्रे पे आज, सुभद्रा – पुत्र,
के रथ का निशान होगा.

 

परमीत सिंह धुरंधर

अभिमन्यु – दुर्योधन संवाद


अभिमन्यु को देखकर दुर्योधन अट्टहास करता हुआ बोला, “अभी बालक हो, लौट जाओ. अभी तो तुमने जीवन में कुछ किया ही नहीं। तुम यूँ अपने जीवन को बेकार मत करो.”
अभिमन्यु ने सबको प्रणाम करने के बाद कहा,
” जीवन में मधुरता प्यार से हैं,
जीवन की प्रखरता कर्म से है,
मगर जीवन की महानता त्याग से है.
इन तीनो के बिना जीवन कुछ नहीं,
और जब जीवन नहीं तो फिर धर्म क्या?”
दुर्योधन ने कहा, “अगर जीवन प्रेम और त्याग है, तो क्या तुम्हे अपने बंधुओं से प्रेम नहीं? क्या तुम उनके जीवन के लिए ये सत्ता का त्याग नहीं कर सकते?”
अभिमन्यु, “प्रेम तो बहुत है. और हमने त्याग भी किया था. आज भी ये लड़ाई हम सत्ता के सुख के लिए नहीं लड़ रहे. अगर लड़ाई सत्ता के सुख की होती तो मैं इस कुरुक्षेत्र में नहीं खड़ा होता। यह हमारा संघर्ष है आपके अत्याचार के खिलाफ। यह संघर्ष है आपकी निरंकुशता के खिलाफ, आपके लोभ, और आपके दमन के खिलाफ।”
अभिमन्यु, “तात श्री, बिना संघर्ष का त्याग, त्याग नहीं; बिना संघर्ष के प्रेम, प्रेम नहीं और बिना संघर्ष के कर्म, कर्म नहीं। अथार्थ, मानव के जीवन की हर परिभाषा और उसकी जवानी बिना संघर्ष के कुछ नहीं। हमारी ये लड़ाई न तो सत्ता के लिए है, ना आपके दमन के लिए. ये हमारा संघर्ष है इस समाज से, जिसके आप चालाक और पालक हो. हम चाहते हैं की इसको बदल दे, और ये संघर्ष है उस बदलाव के लिए.”

 

परमीत सिंह धुरंधर

अभिमन्यु संग अर्जुन के


असहनीय पीड़ा है जीवन बिन पिता के,
मत लिखो ऐसा कुरुक्षेत्र फिर ए दाता,
की अभिमन्यु हो बिन अर्जुन के.
समर में किसे हैं अब भय प्राणों का,
लेकिन तीरों को और बल मिलता,
जो होता अभिमन्यु संग अर्जुन के.

 

परमीत सिंह धुरंधर

सुभद्रा-अभिमन्यु


चंचल मन, कोमल तन,
बालकपन में अभिमन्युं।
अभिमन्युं-अभिमन्युं।
माँ का दूध पीते – पीते,
पहुंचा रण में अभिमन्युं।
अभिमन्युं-अभिमन्युं।
चारों तरफ सेनाएं सुसज्जित,
बीच में अकेला अभिमन्यु।
अभिमन्युं-अभिमन्युं।
द्रोण-कर्ण के तीरों को,
तिनकों सा उड़ता अभिमन्युं,
अभिमन्युं-अभिमन्युं।
कर्ण के पूछने पे परिचय, बोला
माँ मेरी सुभद्रा, मैं उसका अभिमान-अभिमन्यु।
अभिमन्युं-अभिमन्युं।
एक अर्जुन से बिचलित कौरव,
के समुख काल सा धुरंधर अभिमन्युं।
अभिमन्युं-अभिमन्युं।

अभिमन्यु


मैं अपनी तीरों से,
नभ में तेरा नाम लिखूंगा।
हर एक पल में मेरी माँ,
तुझे प्रणाम लिखूंगा।
द्रोण-कर्ण भी देख लें,
माँ शौर्य तेरे दूध का.
जब मैं धुरंधर उनकी तीरों से,
चिड़िया बनाके उड़ाऊंगा।
ना यूँ कम्पित हो माँ,
भविष्य की कल्पना से.
मैं लाल तेरा हूँ माँ,
तेरा ही कहलाऊंगा।
द्रोण के चक्रविहू को तोड़,
वहाँ पुष्प खिलाऊंगा।
और उन पुष्पों से माँ,
रोज तेरा आँगन सजाऊंगा।