Two words


I love two words
Difference and different
It’s like husband and wife
I never understand how different the other guy was
That my GF chose him for her life.

I hate two words
Love and pain
It’s like husband and wife
you invite one and partner also joins.

I worship two words
Mom and dad
It’s again like husband and wife
they keep fighting by saying “he is my son”
“he is my son”
I don’t understand why
As I have no quality and good sign.

I am always confused with two words
Husband and wife
You talk with one to know him/her in a better way
And you get all stories about the partner
In the end, you listen a sentance “It was the biggest mistake of life”.

Parmit Singh Dhurandhar

अभियान


मदहोशियों की रात थी
जब तुम मेरे साथ थी
साँसों का बहाव था
घोंसलों में पड़ाव था.

पंखों को समेटे
आँखों को मूंदे
रक्त के तीव्र प्रवाह
में मिल रहे थे अंग – अंग
जाने कैसा वो अभियान था.

परमीत सिंह धुरंधर

थोड़ी – थोड़ी


किसको मैं प्यार करूँ?
ये दिल तू ही बता
वो हर रात थोड़ी – थोड़ी
मुझसे दूर जा रही हैं.

कोई और भी तो नहीं है
जो मेरी नशों में ऐसा रास घोले
वो तो अब इन नशों में
उतरने से इंकार कर रही हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

आस


आज अभी इस रात को तुझे पाने की चाह है
जानता हूँ ये मुमकिन नहीं पर दिल को एक आस है.

परमीत सिंह धुरंधर