भंवर


वो किताबों के मेरे पन्ने बने हैं
वो शहर की मेरी दुकानें बने हैं.

ढूंढती है जिसे नजर मेरी प्यासी
वो ख़्वाबों के मेरे समंदर बने हैं.

वो मासूम सा चेहरा
छोड़ गया मुझे भंवर में
जिसके लिए हम दीवाने बने हैं.

These lines are for someone from Raebareli.

परमीत सिंह धुरंधर

हाले – जिंदगी


दास्ताने – जिंदगी तो सबने लिखी है
मैं पढ़ने बैठा हूँ दास्ताने – जिंदगी।

शौक समंदर का रखता हूँ
इस शौक ने कर दिया तन्हा जिंदगी।

उलझनों में उलझ के जो थम जाते हैं
कब कोई उनसे पूछता है फिर हाले – जिंदगी?

उनकी निगाहों को देख समझ गया था
ख़ाक के सिवा कुछ नहीं मोहब्बत में जिंदगी।

दुवाओं का असर है या कर्म का फल है
बेगानों की बस्ती में अब तक टिकी है जिंदगी।

परमीत सिंह धुरंधर

गरीबों की सुन ले ए दाता-III


टूटे हैं सारे ख्वाब इनके
बनके आँसू
छलक -छलक के.
जाने कैसे ज़िंदा हैं ये
जीवन में इतना भटक – भटक के.
कौन तोड़ेगा इनकी बेड़िया
एक तेरे सिवा
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।
इनकी आँखों के आगे
रहता है बस अँधेरा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

परमीत सिंह धुरंधर

मैं कोमल – कुमुदुनी हूँ – II


न व्यर्थ करो मेरे जीवन को
अपने गर्व के आवेश में
तुम दम्भ से ग्रसित गजराज हो
मैं शर्म से संकुचित तरुणी हूँ.

तुम यश – गाथा के लालसी
मैं अंक की तुम्हारे अभिलाषी हूँ.
ना खेलो मेरे ह्रदय से
मैं कोमल – कुमुदुनी हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

मैं कोमल – कुमुदुनी हूँ


ना खेलो मेरे ह्रदय से
मैं कोमल – कुमुदुनी हूँ.

अपना बना लो मुझे
आतुर मैं प्रचंड अग्नि हूँ.

व्यर्थ न करो मेरे तन – मन को
मैं तुम्हारी जीवन – संगिनी हूँ.

क्या प्राप्त कर लो गे, गंगा-पुत्र?
इस प्रतिज्ञा को पाल कर.
भीष्म तो बन जाओगे
पर मैं तुम्हारी अधूरी – जिंदगी हूँ.

मेरी साँसों में प्रवाहित हो तुम
मैं ही तुम्हारी अर्धांगिनी हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

गरीबों की सुन ले ए दाता-II


गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।
जब जीना ये चाहते हैं,
साँसे टूट जाएँ,
जब पीना ये चाहते हैं,
दरिया सुख जाए.
इनके बस में कही कुछ भी ना,
एक तेरे नाम के सिवा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

बड़े भोले है ये, बड़े निश्छल है ये
पल में छल जाते हैं, पल में बिक जाते हैं
पल में प्रेम में बंध के यहाँ।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।
तू छलता रहे, तू ठगता रहे, शिकवा नहीं तुझसे
इस छलावे में ही तो है जीवन की सारी माया।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

तू भी जी के गया, बनके मानव यहाँ
तुझको है पता, जीवन की हर एक पीड़ा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।
किसको पुकारूँ, किससे माँगूँ सहारा?
पग को मेरे जल में, ग्रह ने है बांधा
छोड़ो निंद्रा बैंकुठ के स्वामी
ललाट तक भक्त है अब डूबा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

बेबस, लाचार,
अपने शर्म से ही खुद मर जाते हैं.
कोई दुआ नहीं, कोई दया नहीं,
जीवन में इनके,
बस तेरी एक आस के सिवा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू है विधाता।
क्या माँगूँ तुझसे और तेरे दर पे?
मेरे आंसुओं है तेरा साया।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।
जब जीना ये चाहते हैं,
साँसे टूट जाएँ,
जब पीना ये चाहते हैं,
दरिया सुख जाए.
इनके बस में कही कुछ भी ना,
एक तेरे नाम के सिवा।
गरीबों की सुन ले ए दाता,
इनका कोई नहीं, तू विधाता।

परमीत सिंह धुरंधर