बबुनी तनी धीरे


बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।
तहरा पे नजरिया लागल बा
तहरे से उमरिया बाझल बा.
तहरा उम्र में हम तितली रहनी
अरे अंगना -दुआर
खेत -बथान
सगरो एक ही टांग
पे नाचत रहनी।
अब त उमरिया ढलल बा
अब त देहिया नवल बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

तहरा पे नजरिया लागल बा
तहरे से उमरिया बाझल बा.
सूरज के उगला से पाहिले
अपना सास के बोलला से पाहिले
चौका -चुहानी, नाद-खलिहानी
चिकन कर के
रोटी तोड़नी।
की अब त
ना उ सकान बा
ना अब उ उड़ान बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

तहरा खातिर मागेम
दूल्हा सुन्दर
शिव के दुअरिया
आचार फैला के.
तहरे ललनवा खेला
के जाएम
यह माया -मोह छोड़ के.
अब त सोना भी भारी लागत बा
अब त तोता भी उड़ेल चाहत बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

परमीत सिंह धुरंधर


रोजे खेला खेलेली संगे हमरा नन्दो
चिठ्ठी पठावे ली रोजे यार के
लिफाफा पे हमार नाम लिख के.

रोजे खेला खेलेली संगे हमारा सासु
रोजे दबवा के कमरिया
कोहरे ली ससुर के आगे खाट पे.

परमीत सिंह धुरंधर

यार सियार आ सैंया अनाड़ी


दरिया में आग लागल बा सैंया
रूठ अ मत जवानी में.

कल्लुआ पड़ल बा पीछे हमार
ले जाए ला आपन बथानी में.

किस्मत हमार अइसन बा ए सखी
यार सियार आ सैंया अनाड़ी रे.

परमीत सिंह धुरंधर

खर्चा उठा ली


सारी नगरिया में चर्चा बा रउरे आमदनी के
सुनी ए बाबूसाहेब छपरा के धुरंधर
खर्चा उठा ली हमर जवनिया के.

हमरा खूंटा से कउनो गाय ना तुराईल आज तक
फंस जइबू रानी, रहे के पड़ी
साड़ी उम्र फिर संगे कोठारिया में.

परमीत सिंह धुरंधर

उसी के संग अब बिछाऊँ गी खटिया


पतली कमर पे जवानी का नशा
ढूंढ रहीं हूँ गली – गली में पिया।
सूना है कोई है छपरा का धुरंधर
सखी
उसी के संग अब बिछाऊँ गी खटिया।

कैसे पड़ गयी तू उसके हथकंडे?
निर्दयी, निर्मोही, वो तो है शातिर बड़ा.
तू जल रही है शायद
आफताब ने कहा की वो है भोला बड़ा.
कैसे पड़ गयी तू इन दोनों के हथकंडे?
दोनों की यारी, है दांत-कटी यहाँ।

परमीत सिंह धुरंधर

वो काला – निठल्ला बिहारी सखी


मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी सखी
रात – रात भर सुलगाये चिंगारी सखी.
मैं खाऊं रोटी, वो तरकारी सखी.
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी सखी-२.

कभी मांगे बोरसी, कभी चूल्हा के आगी सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी सखी.
कभी दुआरा, कभी अंगना में डाले चारपाई सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी सखी.

मैं बंगालन सुन्दर – सलोनी,
वो काला – निठल्ला बिहारी सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी रे सखी.
रोज रख दे मेरी कमर पे कटारी सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी सखी.

कभी मांगे मुर्ग – मसल्लम, कभी चुरा और दही सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी रे सखी.
गयी थी चराने अपनी गाय, फंस गयी उसके बथानी सखी
मेरा बलमा बड़ा है अनाड़ी रे सखी.

परमीत सिंह धुरंधर