कस्तूरी


मन कस्तूरी, जग दस्तूरी
रिश्तों में है अजब सी दूरी।
बेचैनी ही पाने की
पाकर दूर जाने की
उलझनों में रह गई
उलझ के प्रेम की डोरी।

सब चाहते है प्रेम सच्चा
कोई ना तोड़े विश्वास उनका
पर खुद पे जब आये तो
क्षण में चलते हैं दिलों पे छुरी।

ररुत आती है, जाती है
सावन-पतझड़, बसंत
के रूप लेकर
पर सबके चूल्हे में हैं
विरह की अनंत चिंगारी।

भूलकर सावन में संग झूले
झूलों की मीठी यादें
चला रहें हैं एक दूसरे पे
तेज-त्तेज कुल्हाड़ी।

First two lines were suggested by a friend.

Rifle Singh Dhurandhar

Harvard-2


तुम प्रेमिका हो मेरी, श्वेत रंग धारी
माँ शारदे की याद, हर पल में लाती।
पूजता हूँ हर रोज माँ शारदे को
की बना दे अपनी जोड़ी।

Rifle Singh

तुम #Harvard नहीं हो मेरा Heart हो प्रिये


तुम हार्वर्ड नहीं हो
मेरा हार्ट हो प्रिये।
तुम्हे पाने के लिए
रह गया मैं अकेला हूँ प्रिये।
तुम सिर्फ एक बिल्डिंग नहीं
मेरा ख्वाब हो प्रिये।
बस तुम्हारे साथ चलने के लिए
रह गया मैं अकेला हूँ प्रिये।
सारे ख्वाब टूट गए, अरमान टूट गए
पिता के लाडले गोद से छूट गए
की तुम सिर्फ एक मुकाम तो नहीं
मेरी सांसे हो प्रिये।
तुम्हे पाने के लिए
रह गया मैं अकेला हूँ प्रिये।

It was a dream to be here

Still, a dream exists in my heart

To be with you forever. 

Rifle Singh Dhurandha

तराशा गया हूँ


मैं तराशा गया हूँ इस कदर दर्द में
ना कोई ख्वाब है ना कोई आशा मन में.

पंख तो फड़फड़ाते हैं हर घड़ी ही
पर ना आसमा है ना ही उड़ान नभ में.

फूल खिले हैं काँटों में, या कांटें ही साथ हैं
जिन्दी ऐसी उलझी, कुछ भी नहीं रहा बस में.

Rifle Singh Dhurandhar

उठो, बढ़ो लड़ो और संघर्ष करो


कोई गरीब नहीं है, कोई अमीर नहीं है.
चंद सिक्कों का खेल है सब, पूरी तस्वीर नहीं है.
ये हंस-खेल रहे, उन्हें कोई सुकून नहीं है.
संसाधनों की लड़ाई है ये, कोई तकदीर नहीं है.
उठो, बढ़ो लड़ो और संघर्ष करो, महाराणा बन के
पढ़ो और बोलो की मुग़ल जालिम थे
वो कोई जिल्ले-इलाही नहीं थें.
इतना क्या शिकायत खुद से मुंतशिर?
ये आवाज और कलम किसी और की नहीं है.

Dedicate to Kavi Manoj Muntashir.

Rifle Singh Dhurandhar

किसान जमीन के हैं


ये किसान जमीन के हैं, ये पंक्षी आसमान के हैं
ये खुले बिचारो वाले निशान उस जहाँ के हैं.
और ये क्या कह रहे हो तुम सत्ता में आकर?
ये शब्द इंसान के नहीं, किसी शैतान के हैं.
मिटाने की हमें, हर जायज-नाजायज जोर कर लो तुम
पहली पंक्ति में कई आने को अभी बेताब से हैं.

भूख से लड़े हैं हम, क्या खूब लड़े हैं हम
मेरे आँगन से तुम्हारे आँगन तक
बूढी दादी ने पीसे जाँत, जागकर कई रातों को
उनकी साँसों का सैलाब, अब भी हमारे सीने में ज़िंदा से हैं.
मिटाने की हमें, हर जायज-नाजायज जोर कर लो तुम
पहली पंक्ति में कई आने को अभी बेताब से हैं.

हृदय टूटे तो टूटे, जंग में साँसे ना टूटे?
साँसे टूटे तो तो टूटे, हल हाथों से ना छूटे
तुम चाहे मीठे ख्वाब दिखा के जितना बरगला लो
सच्चे किस्से अब भी हमारी जुबान पे हैं.
मिटाने की हमें, हर जायज-नाजायज जोर कर लो तुम
पहली पंक्ति में कई आने को अभी बेताब से हैं.

Rifle Singh Dhurandhar

गज-ग्राह संग्राम


दो नैनों के भवर में सारा जग डूबा है
हे जगत के स्वामी तुम्हारा भक्त डूबा है.
आधा पहर ढल गया और सागर अथाह है
हे जगत के स्वामी तुम्हारा भक्त डूबा है.
सम्पूर्ण बल क्षीण हुआ, ग्रीवा तक अब नीर है
अंत समय में स्वामी अब तुम्हारा ही सहारा है.

Rifle Singh Dhurandhar

पुरवाई मैं झेल रही


मेरे मौला मैं थक गयी हूँ राहत के इंतजार में
कोई तो एक पल लिख दो, चैन मिले इस प्यार में.
आँखों में अश्क, और बेचैनी है रातो को
कब तक बैठूं यूँ खोल के किवाड़ मैं?
बेताब है टूटने को चूड़ियाँ और खनकने को पायल
दर्पण भी उल्हना मारे देख के मुझे श्रृंगार में.
अनाड़ी जाने बैठा है किस सौतन के ख्वाब में?
और पुरवाई मैं झेल रही विरहा की इस आग में.

Rifle Singh Dhurandhar

दर्द


दर्द है, तो जी लेने दो.
सिसक -सिसक कर ही सही
दो कदम चल लेने दो.
दर्द नहीं रहा तो हम नहीं होंगे।
जब तक जिन्दा हैं
जाम पी लेने दो.

Rifle SIngh Dhurandhar