उसने कई शौहर रखें हैं


ना मांग मुँह खोल के इस जमाने से ए दोस्त
अब कहाँ वैसे रिश्ते बचे हैं?

ना मायूस हो कर देख गमे-जिंदगी को
अभी तो जिंदगी के कई दौर बचे हैं.

सिसक -सिसक के नहीं, घूम-घूम के जी लेंगें
अभी तो किस्मत के कई सितारे बचें हैं.

मोहब्बत और सियासत में ना भरोसा कर किसी का
यहाँ पैसों की खनक पे दिल बिकें हैं.

ना ये शहर किसी का, ना हुस्न ही किसी का
इसी शहर में उसने कई शौहर रखें हैं.

परमीत सिंह धुरंधर 

मोती बिखरे हैं


ये जो मेरे दिल के ख्वाब टूटे हैं
कह दो समंदर से कुछ मोती बिखरे हैं.
बूंदों को ना ढल्काउँगा अपनी पलकों से
अब भी इन आँखों में कुछ ख्वाब नए हैं.

परमीत सिंह धुरंधर 

Distance


Today I talked with the moon
The moon was sad
That we don’t communicate with it
We don’t remember it anymore
Children enjoy PUBG
Moms enjoy WhatsApp and Facebook
No one now sings “Chanda mama dur ke”.

Now writers and poets don’t write on it
Living relations and job pressure have destroyed
the value of letters, moon, air, clouds
in the long-distance relationship.

Technology and computers
Have brought us closer physically
But it seems the distance between us
Has increased only.

Parmit Singh Dhurandhar

सुशांत सिंह राजपूत की जंग जारी रखेंगें


मैं तो मुंबई से पहले ही परास्त हुआ
तुम तो मुंबई तक पहुँच गए.
मैं अपने पहली ही जंग में हार गया
तुम तो कितने जंग फतह कर गए.
यह लड़ाई न मेरी है, ना यह जंग तुम्हारी थी
ये जंग हमारी है, हाँ ये जंग हम सबकी है.
यह जंग है,
हमारे सपनों की उनके गुनाहों से
हमारे अधिकारों की उनकी सत्ता से
हम छोटे शहर की चींटियों की
इन जंगल के हांथियों से.
चाणक्य की
धनानंद के उन्माद और अहंकार से.

आज भले हम हार गए
आज भले दूर -दूर तक
हमारे सितारे धूमिल हैं.
मगर हम शिवाजी के छोटे झुण्ड में आते रहेंगें
और लुटते रहेंगे इनके महलों को
इनकी खुशियों को, तब तक
जब तक औरंगजेब की इस सत्ता
को नष्ट ना कर दे,
तबाह ना कर दे.

हम चीटिंयां हैं चाणक्या के
हम चिड़ियाँ हैं गुरु गोबिंद सिंह जी के
हम कटेंगे, हम गिरेंगे, पर लड़ेंगें तब तक
जब तक विजय श्री हमारी नहीं।
आज चाहे जितना उत्सव माना लो मेरे अंत का
कल तुम्हारा जयदर्थ सा अंत करेंगे।

परमीत सिंह धुरंधर 

Covid lockdown


We are hiding in a room
Like having a bore and forced honeymoon
However, take a positive note
We are giving time to color our background.

Nature is smiling with a clear blue sky
Rivers are flowing like fresh warm honey
The Sun, Moon, trees, and flowers
Now enjoying their shares proportionally.

As a human
We should be open to learn
Learn to sacrifice
Learn to give up
For the betterment of our society.

We are not hiding due to fear
This is the time for meditation
Meditation to improve our love
Meditation to improve our bond with our surroundings.

Wrote on #lockdown due to corona.

Parmit Singh Dhurandhar

अपने बेगम की चोली का रंग लाल हूँ


बेलगाम, बेधड़क, बेदाग़, बेबाक हूँ
हर खेल का माहिर धुरंधर
छपरा का मस्तान हूँ
जी हाँ, मैं खुद में एक बिहार हूँ.

रंगों से बना नहीं
मगर हर एक रंग में शामिल हूँ
कुवारियों के आँखों का ख्वाब
विवाहितों के दिल की कसक
मैं अपने बेगम की चोली का रंग लाल हूँ।
जी हाँ, मैं खुद में एक बिहार हूँ.

नागार्जुन का विद्रोह
दिनकर की आवाज हूँ
बुद्ध, महावीर का तप – त्याग
गुरु गोविन्द सिंह जी और चाणक्य
का शंखनाद हूँ.
जी हाँ, मैं खुद में एक बिहार हूँ.

पनघट पे गोरी की मुस्कान
मस्ती में बहता किसान हूँ
पुरबिया तान, खेत -खलिहान
फगुआ में भाभियों की सताता
निर्लज -बदमाश हूँ.
जी हाँ, मैं खुद में एक बिहार हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर 

गुलिस्तां


मेरे आंसूओं ने तेरी यादों के गुलिस्तां को
ऐसे ज़िंदा रखा है
क्या बसंत, क्या सावन, क्या पतझड़?
हर मौसम फीका है

परमीत सिंह धुरंधर 

नारी और श्री हरी


जब – जब नारी पात्र बनी है, हंसी, भोग, बिलास का
श्री हरी अवतरित हुए हैं लेकर नाम कृष्णा – राम का.

पूरी महाभारत रच दिया था, रखने को एक नारी की लाज
कैसे तुम नाम दोगे उसे नारी के अभिशाप का?

ज्ञान पे तुम्हारे लग रहा, अब अभिमान है छा रहा
वाणी ऐसी ही होती है, जिसके मन – मस्तक में हो पाप छिपा।

अभिमानी को कब हुआ है श्री हरी का आभास भी
ऐसे ही जन्म होते हैं कुल-काल-कोख पे दाग सा.

परमीत सिंह धुरंधर