अब किस्से चलेंगे


मुझे रिश्तेदार बनाकर वो खुद गुनाहगार बन गया
अब किस्से चलेंगे उसके मेरे इश्क़ के.
जाने किसके लिए खुदा ने बनाया था उसे
मुझसे नजर मिलकार वो बदनाम हो गया
अब किस्से चलेंगे उसके मेरे इश्क़ के.

परमीत सिंह धुरंधर

29 Nov


इस शहर के हर मोड़ पे अकेला – अकेला सा महसूस करता हूँ
घर किसी का भी टूटे, मैं टुटा – टुटा सा महसूस करता हूँ.

परमीत सिंह धुरंधर

शहर में जो भी ख्वाब हैं


शहर में जो भी ख्वाब हैं
सब उदास हैं.
घरों में बालकनी है
बालकनी में पौधें हैं
पौधों पे फूल और फूल पे तितलियाँ हैं
पर ना वो सुबह है ना वो शाम है.
शहर में जो भी ख्वाब हैं
सब उदास हैं.

अजीबो-गरीब रिश्ते हैं
झगड़ालू बीबी तो भागती प्रेमिका है
बिना शादी के होते बच्चे हैं
पर किसी को नहीं पता
कैसे किसके माँ – बाप हैं?
शहर में जो भी ख्वाब हैं
सब उदास हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

शहर


जिसको भी आता है घोंषला बनाना
इस शहर में उसी का घोंषला नहीं है.

कैसे सवारोगे किस्मत को Crassa?
किस्मत में बस यही एक चीज़ लिखी नहीं है.

उड़ रहे हैं बहुत परिंदे आसमा में
मगर दूर – दूर तक इनका कोई आशियाना नहीं है.

संभालना सिख लो गलियों में ही
ये शहर देता दोबारा मौका नहीं है.

उजड़ा है मेरा गुलिस्ता यहीं पे कभी
मगर शहर ये अब भी शर्मिन्दा नहीं है.

परमीत सिंह धुरंधर