राखी और करवा चौथ


राखी के बंधन को कैसे निभाए कोई,
अब करवा चौथ का खर्च भारी पर रहा है.
राखी मनाई जा रही है अब व्हाट्सऐप और फेसबुक पे,
मगर मंगलसूत्र आज भी सोने का माँगा जा रहा है.

परमीत सिंह धुरंधर

हुस्न


मोहब्बत की,
बस आरजू रखतें हैं.
हम आज भी,
अपने सीने पे काबू रखते हैं.
गुजरती हैं कई जसलीन,
मेरी गलियों से रोज.
करीब जाके भी,
हम उनके दुप्पटे से,
एक दुरी रखते हैं.
हारें हैं जिस हुस्न से,
इस खेल में कई सबरजीत यहाँ।
वो पर्दानशीं भी,
इन राहों में,
बस परमीत से खौफ रखते हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

रखा है तिरंगा आज भी आसमानों में


हम वीर नहीं तो क्या हैं भला?
बोलों, इस आँगन के.
हम लड़ते रहें,
हम भिड़ते रहें।
जब उजड़ रहे थें,
सब तूफानों में.
तुर्क आएं, तैमूर आएं,
मुग़ल के पीछे, अंग्रेज आएं.
वो कुचलते रहें,
चुनवाते रहें,
हमें जिन्दा ही दीवारों में.
हम टूटते रहें,
हम बिखरतें रहें।
पर बढ़ते रहें,
इन राहों में.
हम जलते रहें,
झुलसते रहें।
पर चढ़ कर,
बलिदानों की वेदी पर.
रखा है तिरंगा,
आज भी आसमानों में.

It got published on the Kavyasagar website also. Here is the link

http://kavyasagar.com/kavita-by-parmit-singh-dhurandhar/

 

परमीत सिंह धुरंधर

हिन्दुस्तान


ना हिन्दू, ना मुसलमान,
ये वतन है हिन्दुस्तान।
यहाँ वीरों की गाथा पहले,
फिर बाद में वेद और कुरान।
यहाँ पहले विस्मिल -असफाक,
फिर बाद में,
मंदिर – मस्जिद के ज्ञान।

It got published on the Kavyasagar website also. Here is the link

http://kavyasagar.com/kavita-by-parmit-singh-dhurandhar-2/

 

परमीत सिंह धुरंधर

कुरुक्षेत्र II


कर्म ही जीवन,
कर्म ही साधन।
कर्म ही,
मानव का संसाधन।
कर्म ही साँसे,
कर्म ही आँखें।
कर्म से ही,
मानव का भाग्योदय।
कंटीले पथ पे,
कर्म ही राही।
मृत्यु-शैया पे,
कर्म ही साथी।
कर्म ही पुण्य,
कर्म ही पाप.
कर्म ही,
मानव का लाभ.
कर्म ही वेद-पुराण,
कर्म ही गुरु-ज्ञान,
कर्म ही,
मानव का अभिमान।
कर्म से बंधे है सभी,
कर्म से उठे, और मिटे है सभी.
कर्म से ही, सजा,
ये कुरुक्षेत्र है.
इस कुरुक्षेत्र में भी,
सबमे भेद, बस उनका कर्म है.

परमीत सिंह धुरंधर

कुरुक्षेत्र


मेरा विस्तार देख,
मेरा आकार देख.
मैं ही हूँ सृष्टि,
आज मुझको साक्षात देख.
आँखों से अपने,
ज्ञान को मिटा के.
मूरख बनके तू,
मेरा प्रमाण देख.
सब कुछ मेरा है,
मुझसे बना है.
एक दिन सबको फिर,
मुझमे ही मिलना है.
तेरा है क्या यहाँ,
तूने क्या रचा है.
जिसके मोह में तू,
इतना बंधा है.
तेरा ये ज्ञान,
ये तीर – कमान।
सब मेरा है,
मुझसे बंधा है.
मैं न जो चाहूँ,
तो न गांडीव हिले।
न तुझसे,
एक भी तीर चले.
शुक्र कर मेरा तू,
ए मूरख।
मैंने अपने इस यज्ञ में,
बस तुझको ही पुरोहित चुना है.
मैं ही हूँ द्रोण में,
मैं ही हूँ कर्ण में.
मैं ही हूँ भीम का बल,
मैं ही दुर्योधन – धृतराष्ट में.
मैं ही पालक विष्णु,
मैं ही संहारक शिव हूँ.
मैं शिशु के भूख में,
मैं ही हूँ माँ के दूध में.
जब मुझको ही मोह नहीं,
अपनों के नाश का.
जब मुझको ही भय नहीं,
मेरी रची सृष्टि के सर्वनाश का.
फिर क्यों तू इतना,
इनसे बंधा है.
जिनके प्रेम में तू,
इतना जकड़ा है.
उनके ही तीरों पे,
तेरा नाम चढ़ा है.
फिर तू क्यों इतना,
अपने कर्म – पथ से डिगा है.
तूने देखा है अब तक,
प्रेम मेरा।
आज मेरे संग,
मेरी लीला भी देख.
तूने देखा है,
द्रोण – भीष्म की शक्ति यहाँ।
अब इस धरा पे,
उनकी मुक्ति भी देख.
बिना सुदर्शन के,
मेरी युद्ध – नीति भी देख.
सबके प्रेम में बंधा हूँ मैं,
मगर मेरी आत्मा की,
इनसे मुक्ति भी देख.
बढ़ मेरे साथ आज इस पथ पे,
मेरे ह्रदय में प्रज्जवलित अग्नि को देख.
ये सर्वनाश नहीं,
एक आरम्भ है.
मेरे साथ तू आज,
एक नए युग का शुभारंभ भी देख.

परमीत सिंह धुरंधर

प्यार


मैं रातों को जलता रहा,
वो दिन भर सुलगती रहीं।
ये प्यार ही तो है जिंदगी,
की हम मिल भी न सके दो घड़ी.
वो मुड़ – मुड़ के देखती रहीं,
मैं हर पल राहें बनता रहा.
ये प्यार ही तो है जिंदगी,
की हम चल भी न सके संग दो घड़ी.

परमीत सिंह धुरंधर

आजादी के इस पावन संध्या पे मेरा नमन उस नारी को


आजादी के इस पावन संध्या पे,
सत्य को नमन.
गांधी के बढ़ते भक्तो से मिलने,
मैं एक बस्ती में गया.
सोचा कुछ समय ग़ांधी के,
अनुवाइयों के संग जी लूँ.
बस्ती में जाते ही सुखद अनुभव हुआ,
हर शख्श के तन पे खादी,
और खादी के बस्त्रो पे गांधी की तस्वीर।
पर ये क्या दो दिन भी नहीं हुआ,
और ये क्या गंदगी की बदबू आने लगी.
मैंने देखा,
उनके मन में आज भी डर, लालच,
और नारी का लोभ है.
ग़ांधी के तस्वीर पहन कर भी,
वो सच नहीं बोल पाते,
ना सच कह पाते हैं.
उस बस्ती में सारे ग़ाँधीवादियों ने,
एक नारी का शोषण किया।
उसका बलात्कार किया।
अन्ना हज़ारे के आंदोलन में दिन में,
चिल्लाने वाले,
रात के अँधेरे में एक अकेली लड़की,
को रुलाते थे, नोचते थे.
जब लड़की ने इस शोषण के,
खिलाफ आवाज उठाई,
तो सारे अन्ना हज़ारे के चेले,
गांधी के पुजारी ने उल्टा उसे ही,
बदचलन साबित कर दिया।
मुझे दुःख इस बात का जानकार हुआ की,
उस बस्ती की नारियां,
जो राम को नहीं पूजती,
वो भी उस लड़की के पक्ष में नहीं आई.
लेकिन हर दिन अरब के नारियों के दमन,
के खिलाफ उस बस्ती में रैली निकालती है.
भाषण देती हैं, आवाज उठाती हैं.
पर एक अकेली लड़की के आंसूं,
अकेले ही बह गए.
ना गांधीवादी आये, ना अन्ना के चेले।
बस एक नयी बात है,
उस बस्ती में सब पीएचडी कर रहे हैं,
विज्ञान की बातें, बिज्ञान के खेल.
लेकिन असत्य के लिए, पैसे के लिए,
नारियों के जिस्म के लिए, अमेरिका जाने के लिए.
दोहरा जीवन जी रहे ये लोग,
गांधी को क्या समझेंगे,
जो ये नहीं समझ पाएं की,
गांधी का मतलब सत्य है,
सत्य का समर्थन है.
अगर किसी बस्ती में, किसी घर में,
नारी के तन का शोषण हो,
तो हम बिज्ञान तो कर सकते हैं,
गांधीवादी नहीं हो सकते।
अगर हम सत्य न बोल सके तो,
हम गांधीवादी नहीं हो सकते।
और ये अंतर है अन्ना हज़ारे और गांधी में,
एक के चेले सत्य बोल नहीं सकते,
एक के चेले सत्य के लिए सत्ता से टकरा गए.
मेरा नमन सत्य को,
उस पथ को, सी पावन संधया पे.
न की व्यक्ति को.
मेरा नमन इस विश्वास को,
उस नारी को,
जिसने अकेले विज्ञान के,
असत्य के पुजारियों को,
टक्कर दी.
नमन उस आत्मविश्वास को,
उस अकेले टकराने के,
साहस को.
उस आजादी को मन के,
जो भौरा बना देता है,
आजादी के प्रेम में.

परमीत सिंह धुरंधर

खूबसूरत बंगलें


खूबसूरत बंगलों में मोहब्बत की गुंजाइस ही क्या,
शिकारी शिकार करे तो फिर बचने की गुंजाइस ही क्या।
लो जल के रख दिया है दीपक, तुम संवर के बैठो तो ज़रा,
घूँघट न सरक जाए खुद-बी-खुद तो मेरी मोहब्बत ही क्या।
मिल जाएंगे तुम्हारे हुस्न के दीवाने कई हर मोड़ पे,
जिसके सीने में तुम धड़कों, उसका हर मोड़ पे मिलना ही क्या।

परमीत सिंह धुरंधर