शौक ना कर


इतना शौक ना कर, आँखों का ए दिल
तुझको बहलाना फिर मुश्किल हो जाए.
वो घटा हैं सावन की एक
उनका ठहरना कहीं तुझे डुबों ना जाए.

परमीत सिंह धुरंधर 

उसने कई शौहर रखें हैं


ना मांग मुँह खोल के इस जमाने से ए दोस्त
अब कहाँ वैसे रिश्ते बचे हैं?

ना मायूस हो कर देख गमे-जिंदगी को
अभी तो जिंदगी के कई दौर बचे हैं.

सिसक -सिसक के नहीं, घूम-घूम के जी लेंगें
अभी तो किस्मत के कई सितारे बचें हैं.

मोहब्बत और सियासत में ना भरोसा कर किसी का
यहाँ पैसों की खनक पे दिल बिकें हैं.

ना ये शहर किसी का, ना हुस्न ही किसी का
इसी शहर में उसने कई शौहर रखें हैं.

परमीत सिंह धुरंधर 

मोती बिखरे हैं


ये जो मेरे दिल के ख्वाब टूटे हैं
कह दो समंदर से कुछ मोती बिखरे हैं.
बूंदों को ना ढल्काउँगा अपनी पलकों से
अब भी इन आँखों में कुछ ख्वाब नए हैं.

परमीत सिंह धुरंधर 

सुशांत सिंह राजपूत की जंग जारी रखेंगें


मैं तो मुंबई से पहले ही परास्त हुआ
तुम तो मुंबई तक पहुँच गए.
मैं अपने पहली ही जंग में हार गया
तुम तो कितने जंग फतह कर गए.
यह लड़ाई न मेरी है, ना यह जंग तुम्हारी थी
ये जंग हमारी है, हाँ ये जंग हम सबकी है.
यह जंग है,
हमारे सपनों की उनके गुनाहों से
हमारे अधिकारों की उनकी सत्ता से
हम छोटे शहर की चींटियों की
इन जंगल के हांथियों से.
चाणक्य की
धनानंद के उन्माद और अहंकार से.

आज भले हम हार गए
आज भले दूर -दूर तक
हमारे सितारे धूमिल हैं.
मगर हम शिवाजी के छोटे झुण्ड में आते रहेंगें
और लुटते रहेंगे इनके महलों को
इनकी खुशियों को, तब तक
जब तक औरंगजेब की इस सत्ता
को नष्ट ना कर दे,
तबाह ना कर दे.

हम चीटिंयां हैं चाणक्या के
हम चिड़ियाँ हैं गुरु गोबिंद सिंह जी के
हम कटेंगे, हम गिरेंगे, पर लड़ेंगें तब तक
जब तक विजय श्री हमारी नहीं।
आज चाहे जितना उत्सव माना लो मेरे अंत का
कल तुम्हारा जयदर्थ सा अंत करेंगे।

परमीत सिंह धुरंधर