जोगीरा सारा रारा


सैयां काट -काट के खाये गाल रे
जैसे मालपुआ ह इ बंगाल के.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

ऐसे तो दांत न थे किसी यार के
सखी, एहीसे मीठा लागे भतार रे.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

कभी भाई- कभी बेटा, कभी बीबी – कभी पतोह
बुढ़ापे में मुलायम की सब लगते हैं क्लास रे.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

दिल्ली में ताल थोक के मनोज तिवारी है तैयार
अबकी बार, दिल्ली में बिहार -२.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

कमलनाथ के हाथ में जैकलीन की कमर
युवा राहुल बाबा पे कोई ना डाले नजर.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

बॉलीवुड में है एक मैना, बोले खरी – खरी बात
नाम है कंगना, हारे जिससे रितिक, कारन – सैफ अली खान.
जोगीरा सारा रारा -जोगीरा सारा रारा।

परमीत सिंह धुरंधर 

रिक्शे पे संग बैठ तो मेरी रानी


पतली कमर पे
आग लगा दूँ, हाहाकार मचा दू रानी।
काट ले जवानी, आके खलियानी।

झुमका दिला दूँ, नथुनी दिला दूँ
तू चल मलमलिया मेरी रानी।
काट ले जवानी, आके खलियानी।

छपरा दिखा दूँ, पटना घुमा दूँ
तू रिक्शे पे संग बैठ तो मेरी रानी।
काट ले जवानी, आके खलियानी।

परमीत सिंह धुरंधर 

भतार सिंह, लताड़ सिंह, नवजात सिंह और खलिहान सिंह


भोजपुरी भाषा की प्रबलता का प्रमाण ये है की इसमें आप किसी का
नाम भतार सिंह, लताड़ सिंह, नवजात सिंह और खलिहान सिंह रख सकते हैं.

परमीत सिंह धुरंधर

बबुनी तनी धीरे


बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।
तहरा पे नजरिया लागल बा
तहरे से उमरिया बाझल बा.
तहरा उम्र में हम तितली रहनी
अरे अंगना -दुआर
खेत -बथान
सगरो एक ही टांग
पे नाचत रहनी।
अब त उमरिया ढलल बा
अब त देहिया नवल बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

तहरा पे नजरिया लागल बा
तहरे से उमरिया बाझल बा.
सूरज के उगला से पाहिले
अपना सास के बोलला से पाहिले
चौका -चुहानी, नाद-खलिहानी
चिकन कर के
रोटी तोड़नी।
की अब त
ना उ सकान बा
ना अब उ उड़ान बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

तहरा खातिर मागेम
दूल्हा सुन्दर
शिव के दुअरिया
आचार फैला के.
तहरे ललनवा खेला
के जाएम
यह माया -मोह छोड़ के.
अब त सोना भी भारी लागत बा
अब त तोता भी उड़ेल चाहत बा.
बबुनी तनी धीरे
बबुनी तनी धीरे।

परमीत सिंह धुरंधर


रोजे खेला खेलेली संगे हमरा नन्दो
चिठ्ठी पठावे ली रोजे यार के
लिफाफा पे हमार नाम लिख के.

रोजे खेला खेलेली संगे हमारा सासु
रोजे दबवा के कमरिया
कोहरे ली ससुर के आगे खाट पे.

परमीत सिंह धुरंधर

भोजपुरी भाषा की प्रचुरता का प्रमाण:1


दुनिया में सबसे ज्यादा पर्यायवाची शब्द पति के लिए भोजपुरी भाषा में ही है. जैसे बिहार की महिलायें अपने पति को निम्न शब्दों से सम्भोधित करती हैं. इसका एक प्रमुख कारण है की वो पति का नाम नहीं लेती हैं.
करेजा, राजा, रजऊ, करेजऊ, भतार, पति, परमेश्वर,भगवान्, भ्रह्मबाबा, बाबू, देवता, मुखिया, बाबूसाहेब, मास्टर साहेब, उनकर भइया, भलुआ के पापा, मुनिया के चाचा, छोटुआ के फूफा, बबुनी के जीजा, आँख के तारा, जलेबी, रसगुल्ला, प्राणनाथ, स्वामी, प्राणेश्वर, इत्यादि।

परमीत सिंह धुरंधर