विडम्बना


जंगल को जो अपना कहते हैं
ये कैसी विडम्बना है?
वो राष्ट्र को नहीं मानते।

पत्थर -पहाड़, पेड़
नदियाँ, सूर्य को अपना कह
पूजते हैं
पर ये कैसी बिडम्बना है?
राष्ट्र को बस भूगोल
भूगोलिक – सरंचना
और कुछ नहीं मानते।

परमीत सिंह धुरंधर 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s