कैसे तुम्हारा दिल जीत लूँ?


मैं हिमालय पे अटल तपस्या कर दूँ,
मैं सागर में बैठ के, साँसों को रोक लूँ.
मगर मैं फिर भी अधूरा हूँ,
कैसे इस अपने दिल को समझाऊं।
मैं बादलों से बिजली को अलग कर दूँ,
मैं भूमंडल से ही ब्रह्माण्ड को चालित कर दूँ.
पर सब ज्ञान मेरा बेकार है,
क्यों की मैं नहीं जानता ए देवी,
कैसे तुम्हारा दिल जीत लूँ?

 

परमीत सिंह धुरंधर

तुम अपनी वेणी में मेरे पुष्प तो लगा के देखो


मैं भीषण तीरों से बाँध दूंगा,
शेषनाग के फनों को.
तुम एक बार तो हमसे,
प्रेम कर के देखो।
मैं इंद्रा को हराकर भी,
अधूरा हूँ तुम बिन.
तुम एक बार अपने नैनों,
के बाण चला के तो देखो।
मेरा तुमसे हैं वादा ए देवी,
तुम यूँ ना अधीर हो.
मैं असुर भले ही हूँ मगर,
मृत्यु तक एक-भार्या नियम में बधूंगा।
तुम अपने मधुर अधरों से,
मुझे प्राणनाथ कह के तो देखो।
ऐसी कोई शक्ति नहीं सृष्टि में,
जो तोड़ सके तुमसे मेरे प्रेम को.
ऐसी कोई अप्सरा भी ना होगी,
जो अब मोह सके इस मन को.
तुम अपनी वेणी में,
मेरे पुष्प तो लगा के देखो।
मैं तुम्हारी लिए,
शिव – विष्णु समस्त, साक्षात परम ब्रह्म,
से टकरा जाऊं।
मैं अपने भीषण बल से,
एक पल में, समस्त क्षीर – सागर सुखा दूँ.
तुम एक बार ह्रदय से अपने भय मिटा के,
मेरे अंक-पास में आके तो देखो।

 

परमीत सिंह धुरंधर

This is based on the first love story of the universe: Meghnaath and Sulochana.

भोजपुरी


ये भोजपुरी है, जिसने मेरे टूटे ह्रदय को फिर धड़कना सिखाया।
ये भोजपुरी है, जिसने मुझे महुआ का रस पिलाया, बिना महुआ के गाछ के.
ये भोजपुरी है जिसने मुझे गरीबी में भी शराब का नशा दिया।
और ये भोजपुरी है, जिसने मेरे हर तृस्कार, अपमान पे माँ सा गले लगाया।
ये भोजपुरी ही है, जिसने मुझे Aftab Taiyab सा प्यारा दोस्त दिया।
चाहे जितना भी वल्गर हो, भोजपुरी मेरे अपनी है.

परमीत सिंह धुरंधर

The girl at the Boston airport


The girl at the Boston airport,
Sweet, small
And like a doll.
The color of the eyes,
And her face changed,
When she saw so many books,
In a single bag.
Something happened,
Inside her heart.
She forgot all her knowledge,
And,
Started looking for her boss.
She thought the hard drive,
As a battery.
And tried hard to pull,
The bag on the trolley.
I told, “excuse me miss, it is very heavy”.
In the last,
With the red face,
She gave a special smile.
And her eyes wished me “happy journey”.

 

Parmit Singh Dhurandhar

कटे पंखों से भी उड़ सकता है पंक्षी


कटे पंखों से भी उड़ सकता है पंक्षी,
अगर उसके घोसलें में बच्चों की चहचहाट हो.
चूल्हे की आग से झुलसती जिस्म को क्या पता प्यास की?
अगर उसके बच्चों के मुख पे खिली मुस्कराहट हो.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Respect Mom and not the religion

खूबसूरती


खूबसूरती तुममे इतनी है की,
चिरगों में रौशनी की कमी है.
गुरुर मुझमे इतना है की,
दुश्मनो की संख्या बढ़ती जा रही है.

 

परमीत सिंह धुरंधर