लालू – राबड़ी


एक लालू – एक राबड़ी
प्रेम जैसे हेमामालिनी।
एक की चाहत दूजे के गाल की
एक के मुख पे हर पल नाम दूजे की.
युग-युगान्तर की ये जोड़ी
प्रेम जैसे हेमामालिनी।

एक नहीं, नौ – नौ संतानों का सुख
देख एक दूजे को भूल जाते हर दुःख।
एक अलबेला – एक अलबेली
प्रेम जैसे हेमामालिनी।
एक लालू – एक राबड़ी
प्रेम जैसे हेमामालिनी।

परमीत सिंह धुरंधर

छपरा के धुरंधर


ऐसी चढ़ी जवानी सखी,
की हाहाकार मचा दूंगी।
पतली कमर के लचक पे अपनी
सखी, चीत्कार मचा दूंगी।
तरस रहे हैं,
आरा – बलिया के बाबूसाहेब
मैं तो छपरा के धुरंधर
संग खाट बिछा लूंगीं।
मैं तो छपरा के धुरंधर संग
विवाह रचा लूंगीं।

आह उठने लगी है
मेरी गदराई जवानी पे.
खेत और खलिहान सब सखी,
अपनी चोली से सुलगा दूंगी।
तरप रहे हैं,
गोरखपुर – धनबाद के बाबूसाहेब
मैं तो छपरा के धुरंधर से
चोली सिला लूंगीं।
मैं तो छपरा के धुरंधर संग
विवाह रचा लूंगीं।

परमीत सिंह धुरंधर

बिहारी कौवा इश्क़ में


कौवा बोलै इश्क़ में
तुझे प्यार करूँगा लेके risk मैं.

काला हूँ पर हूँ बिहारी मैं
गोता लगाता हूँ बड़ा तीव्र मैं.

परमीत सिंह धुरंधर

छठी-व्रतियों को हैं बस आपकी प्रतीक्षा


हे प्रभु भक्त आपका
आपको है पुकारता।
सारा अम्बर आपका
है अन्धकार में डूबा हुआ.
कहिये अरुण-देव से
वेग दें अश्वों को
छठी-व्रतियों को हैं
बस आपकी प्रतीक्षा।

निर्जला – व्रत ये
समस्त मानव के कल्याण को.
हलक – अधर – कंठ – प्राण
नस-नस, छठी-व्रतियों का सूख रहा.
कहिये अरुण-देव से
वेग दें अश्वों को
छठी-व्रतियों को हैं
बस आपकी प्रतीक्षा।

परमीत सिंह धुरंधर

हर साल मैं अर्घ्य सूर्य-देव को चढ़ाता रहूं ए छठी – मैया


साकार मेरे सारे स्वप्न हो ए छठी – मैया
सुख हो, समृद्धि हो घर में,
निरंतर आपका नाम हो ए छठी – मैया।
कुछ भी हो या कुछ ना हो मेरे पास
बस आपका एक आस हो ए छठी – मैया।
नस – नस में जब तक रहे प्राण
आता रहूँगा आपके घाट ए छठी – मैया।
माटी चाहे जो भी मिले
बस आपका आशीष मिलता रहे हमें ए छठी – मैया।
हर साल मैं छठ मानता रहूं ए छठी – मैया
हर साल मैं अर्घ्य सूर्य-देव को चढ़ाता रहूं ए छठी – मैया।

परमीत सिंह धुरंधर

छठी-व्रतियों को मिले आपका दिव्या – दर्शन


उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका दिव्या – दर्शन।
उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका शुभ – दर्शन।
जान – जान का हो कल्याण
लगे जल – अन्न का फिर भण्डार।
धरती सज कर फिर खिल उठे
बनकर एक नई उपवन।
उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका दिव्या – दर्शन।
उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका दिव्या – दर्शन।

पुष्प सा विकसित हो हर एक नन्हा शिशु
आपके किरणों से पाके वर्ज सा यौवन।
ममातृत्व- वात्सल्य का यूँ ही चलता रहे
अनंत तक इस धरती पे ये मिलन।
उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका दिव्या – दर्शन।
उदित हो ए सूर्य नारायण
छठी-व्रतियों को मिले आपका शुभ – दर्शन।

परमीत सिंह धुरंधर

मेरी गृहलक्ष्मी बिहार की


मेरी गृहलक्ष्मी बिहार की
मछली और चिकन की थाली में भी
परोसती हैं चोखा, चटनी और खिचड़ी।

मेरी गृहलक्ष्मी बिहार की
दही -चिउरा पे खिलाती है
पापड, अदौरी – तिलोड़ी।

मेरी गृहलक्ष्मी बिहार की
दोपहर के खाने में ऑफिस में
भेज देतीं है
सतुआ, आचार और हरी मिर्ची।

परमीत सिंह धुरंधर