Cancer


कैंसर, गावं के उस भौजी की तरह है जो सबको देख के मुस्काती है. साड़ी संभाल-संभाल के बात करती है.
और लोग समझते हैं की इस का चक्कर सबसे है और उनको ही ज्ञान है.

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s