A love story that started 20 years back (Part 1)


41948638_10215360796206419_435698189929021440_oवो College Of Agriculture
तुझे मेरा शत – शत बार नमन.
तेरे पावन आँगन में आकर
मैंने पाए खुशियाँ अनगिनत।

घोंसलों से निकला ही था मैं,
तूने मेरे पंखों को
अनंत आसमान दे दिया।
और मैं भी उड़ता रहा – उड़ता रहा,
बिना सोचे, समझे, बिना किसी लक्ष्या के
तूने मेरे नस – नस में ऐसा उत्साह भर दिया।

वो College Of Agriculture
तुझे मेरा शत – शत बार नमन.
तेरे पावन आँगन में आकर
मैंने पाए खुशियाँ अनगिनत।

ना डर, ना भय, ना क्रोध
बस मैं और तेरा आँचल।
किताबों का शौक
दोस्तों का चस्का
ऐसा जगाया तूने
की मेरे पथ को कभी अँधेरा ढक नहीं पाया।
पथ भले कंटीला मिला मुझे
पर हौंसला आज तक टूट नहीं पाया।

वो College Of Agriculture
तुझे मेरा शत – शत बार नमन.
तेरे पावन आँगन में आकर
मैंने पाए खुशियाँ अनगिनत।

 

परमीत सिंह धुरंधर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s