छपरा की बैठकी


मुझे छोड़ गए बलमा
एक प्यास जगाकर।
सुलगती रही सारी रात
मैं एक आस लगाकर।

काजल भी न बहा
न टुटा ही गजरा।
उड़ गया वो भौंरा
अपनी जात बताकर।

कोई संदेसा पीठा दो
उस हरजाई Crassa को.
न ऐसे छले
हाय, दिल लगाकर।

जाने क्या मिलता है
छपरा की बैठकी में.
की भूल गए तुम हमें
अपनी लुगाई बनाकर।

परमीत सिंह धुरंधर

मोहब्बत का समंदर


मेरी मोहब्बत का समंदर
बस पिता के नाम से आरम्भ
और पिता के नाम पे
जिसका अंत होता है.
जैसे सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में
अनंत तक शिव, शिव
और बस शिव का नाम होता है.

परमीत सिंह धुरंधर

फंस गया छपरा का धुरंधर


मेरे नैनों के बस दो तीर चले थे
और लोट गया चरणों में वो सिकंदर।

सुना था बड़ा वीर है Crassa
समझता है जो खुद को कलंदर।

बस चोली के दो बटन ही खोले थे
और फंस गया वो छपरा का धुरंधर।

परमीत सिंह धुरंधर

हिन्द पे नरेंद्र फिर तुम्हारा राज हो


वसुंधरा पे वीर वही,
जो नित्य – नया प्रमाण दे.
हिन्द की इस धरती पे,
नरेंद्र फिर तुम्हारा राज हो.

एक नए युग का उदय हुआ,
जब नरसिंह तख़्त पे विराज हुए.
जागी फिर सोइ भारत की आत्मा
जब नरेंद्र तुम दहाड़ उठे.

हिन्द की इस धरती पे
फिर से वही दहाड़ हो.
हिन्द की इस धरती पे,
नरेंद्र फिर तुम्हारा राज हो.

परमीत सिंह धुरंधर

होली छपरा के धुरंधर से


सरहदों को पता ही न चला
सितमगर, सितम कर गया.
मैंने तो कस कर बाँधी थी चोली
हरजाई जाने कैसे फिर भी रंग डाल गया.

सखी, अब ना खेलने जाउंगी
होली छपरा के धुरंधर से.
निर्मोही तन ही नहीं
मेरा मन भी रंग गया.

परमीत सिंह धुरंधर

दबा देना तुम पाँव माँ का


आवो,
तुमको प्यार करूँ
जीवन की इन बाधाओं में.
पहला पग मैं रखूंगा
काँटा आये जो राहों में.

तुम मुझको मोहन कहना
कहूंगा राधा तुमको मैं.
पहला पग मैं रखूंगा
काँटा आये जो राहों में.

थोड़ा दबा देना तुम
पाँव माँ का रातों में.
ख्याल रखूंगा जीवन भर
मैं बढ़कर अपनी साँसों से.

आवो,
तुमको प्यार करूँ
जीवन की इन बाधाओं में.
पहला पग मैं रखूंगा
काँटा आये जो राहों में.

परमीत सिंह धुरंधर